एंटीऑक्सिडेंट के लिए करें चाय का सेवन

ज्यादातर लोग चाय की चुस्कियां थकान मिटाने या आदत की वजह से पीते हैं। कई लोग चाय के सेवन को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी मानते हैं। लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि कम ऑक्सीडेशन वाली चाय सेहत के लिए लाभकारी होती है। चाय को जितना कम प्रोसेस किया जाता है उसमें उतना ही ज्यादा स्वाद व खुशबू होने के साथ ही लाभकारी गुण भी होते हैं।

ओलोंग टी
एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर इस चाय में कैल्शियम, मैग्नीज, पोटेशियम, कॉपर और सेलेसियम होता है। यह वजन नियंत्रित करने, दांतों को खराब होने से रोकने और त्वचा को निखारने में मददगार होता है। यह चाय काले धब्बे और झुर्रियां कम करने के साथ ही सनस्क्रीन और टोनर के तौर पर भी काम करती है।

ब्लैक टी
यह डायबिटीज के स्तर को कम करने के अलावा दिल संबंधित बीमारियों की आशंका को भी घटाती है। इसके अलावा त्वचा के लिए भी लाभकारी होती है। यह रोम छिद्रों में कसावट लाने और चेहरे की रंगत निखारने में मदद करती है।

सफेद चाय
यह कॉलेस्ट्रॉल व ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक होती है। इसमें कैफीन की मात्रा कम और फिनॉल की मात्रा ज्यादा होती है। यह एलेस्टिन और कोलेजन को मजबूती देने के साथ ही झुर्रियां रोकने और मुंहासे ठीक करने में भी मदद करती है।

हर्बल टी
इसमें कैफीन नहीं होता है। यह त्वचा की एलर्जी में लाभकारी होने के साथ ही कैंसर से भी लडऩे में सहायक होता है।

ग्रीन टी
एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर यह चाय कोलेस्ट्रॉल कम करने और स्वस्थ कोशिकाओं को तेजी से बढऩे में मदद करता है। इस्तेमाल फेस स्क्रबर और टोनर के तौर पर भी किया जा सकता है।

यह होते हैं लाभ
चाय पीने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है खासतौर पर ग्रीन टी के सेवन से।
चाय में फ्लोराइड और टैनिन की उपस्थिति प्लाक को दूर रखता है। इससे दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं।
पॉलीफिनॉल और एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा होने से चाय कैंसर से लडऩे में मददगार होती है।
किसी तरह की चीनी और दूध न मिलाया जाए तो चाय कैलोरी मुक्त होती है जो आपको कई तरह से रिफ्रेश कर देती है।
चाय पीने से धमनियां चिकनी और कॉलेस्ट्रॉल मुक्त होती हैं जिससे दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

Let's block ads! (Why?)

Post a comment

0 Comments