कुछ खास आहार से मिलती है बढ़ती उम्र में पर्याप्त ताकत

उम्र से जुड़ी बीमारियों, डायबिटीज या दिल की बीमारियों का खतरा कम करना हो तो डाइट में एंटीऑक्सिडेंट्स वाली चीजों को शामिल करना चाहिए। इससे हमारे शरीर को महत्वपूर्ण एंटी-इंफ्लेमेटरी मिलने के साथ ही रक्त संचार और कोशिकाओं का मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है। अलग-अलग तरह के एंटीऑक्सिडेंट्स शरीर के अलग-अलग अंगों के लिए लाभकारी होते हैं।


बढ़ती है इम्यूनिटी
फलों में एंटीऑक्सिडेंट्स की पर्याप्त मात्रा होती है। विटामिन ए, सी और ई, पॉलीफेनॉल्स और कुछ मिनरल्स जैसे सेलेनियम इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं।

कैंसर की आशंका कम
कैंसर होने के कई कारणों में से एक एंटीऑक्सिडेंट्स की मात्रा अत्यधिक कम होना है। लिहाजा कैंसर से दूर रहने और ऐसी कई घातक बीमारियों को दूर करने के जितना हो सके एंटीऑक्सिडेंट्स युक्त चीजों का सेवन करें। इनका नियमित सेवन शरीर में भी ऊर्जा का संचार करता है।

एंटीऑक्सिडेंट्स जरूरी
दरअसल हमारा शरीर बैक्टीरिया और वायरस से लडऩे के लिए फ्री रेडिकल्स का निर्माण करता है। जब यह अत्यधिक संख्या में हो जाते हैं तो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देते हैं। इसका असर हमारी सेहत पर पड़ता है और हमें दिल की बीमारियां, कैंसर जैसी गंभीर समस्याएं होने लगती हैं। ऐसे में अच्छी सेहत के लिए एंटीऑक्सिडेंट्स और ऑक्सिडेंट्स के बीच संतुलन होना जरूरी है। यही वजह है कि एंटीऑक्सिडेंट्स युक्त चीजों का सेवन करना जरूरी होता है।

राजमा
लाल, काला या पिंटो हर तरह के राजमा में ऑक्टेन की अत्यधिक मात्रा होती है जो एंटीऑक्सिडेंट का अहम स्रोत होता है। इसमें मसल्स बनाने वाले प्रोटीन और कम मात्रा में फैट होता है जो सेहत भी बनाता है।

मुनक्का
इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट एंथोसायनिन से शरीर की ऊर्जा बढ़ती है। अंगूर की तुलना में मुनक्का में तीन गुणा एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा होती है।

अखरोट
रोजाना मु_ी भर अखरोट खाना सेहत के लिए अच्छा होता है। कॉलेस्टॉल फ्री होने के साथ ही इनमें सोडियम की मात्रा कम होती है। एंटीऑक्सिडेंट पॉलीफेनॉल्स भी भरपूर होता है।

जौ
इसे भिगोकर और अंकुरित करने से एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा कई गुणा बढ़ जाती है। साथ ही इसे पचाना आसान हो जाता है और हमारा शरीर भी उसमें से कई तरह के पोषक तत्वों को आसानी से अवशोषित कर लेते हैं।

Let's block ads! (Why?)

Post a comment

0 Comments