इन फल और सब्जियों को खाने से आपका फिगर रहेगा फिट

प्रकृति ने कुछ ऐसे अनोखे फल, सब्जियां और दालें हमें दी हैं, जो न केवल शरीर के अंगों के लिए फायदेमंद हैं, बल्कि उनके आकार भी हमारे शरीर के कई अंगों की तरह ही हैं।

अंगूर : फिगर फूड

दुनिया में लाल, हरे, बैंगनी रंग के अंगूर पाए जाते हैं। इसका प्रयोग वाइन व किशमिश बनाने में किया जाता है। इन्हें फिगर फूड भी कहा जाता है, इसका आकार हृदय व फेफड़े के समान होता है और यह हृदय व फेफड़े के लिए सबसे अधिक लाभदायक हैं।

अंगूर का स्वास्थ्य पर प्रभाव : इसमें उपस्थित पोलीफेनॉल एंटीऑक्सीडेंट विभिन्न तरह के कैंसर रोकने में सहायक है। इसे नियमित खाने से हृदय रोगों में कमी आती है।


गाजर: आंखों की लाइफलाइन

इसका आंतरिक आकार आंख जैसा होता है इसीलिए यह आंखों की रोशनी के लिए फायदेमंद है।

फायदे : इसमें लाइकोपिन होता है जो कैंसर को बढ़ाने वाले फ्री रेडीकल्स को बनने से रोकता है। इसमें मौजूद बीटाकैरोटीन आंखों व त्वचा को स्वस्थ रखता है।

शकरकंद: पेंक्रियाज का रक्षक

शकरकंद, पेंक्रियाज के आकार का होता है इसीलिए यह इसकी कार्यक्षता बढ़ाने में सहायक होता है।

फायदा: अधिक कैरोटिनॉयड के कारण यह फेफड़े और मुंह के कैंसर से बचाता है। इससे शुगर कंट्रोल होती है। आंखों की रोशनी बढ़ती है और इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। प्रो.ममता तिवारी/ गुंजन सनाढ्य

राजमा : किडनी का दोस्त

इसका आकार किडनी जैसा होता है।

फायदा: राजमा में घुलनशील व अघुलनशील दोनों तरह के रेशे होते हैं। घुलनशील रेशे शरीर में कोलेस्ट्रॉल के साथ घुलकर उसे शरीर से बाहर निकाल देते हैं। साथ ही अघुलनशील रेशे शरीर में पानी की मात्रा बढ़ाकर कब्ज को होने से रोकते हंै।

दिल के आकार के टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है, जो दिल की सुरक्षा करता है।

ब्रोकली : पौष्टिकता का खजाना

इसका आकार हमारे फेफड़ों के समान होता है।

फायदा: ब्रोकली विटामिन सी से भरपूर है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली के समुचित कार्य को बनाए रखने के लिए एक पोषक तत्व मानी जाती है। ब्रोकली क्रोमियम का बहुत अच्छा स्रोत है, जो मधुमेह पर नियंत्रण और शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को नियंत्रित करती है।

ये फल और सब्जियां शरीर के लिए आवश्यक संतुलित आहार का भी प्रमुख हिस्सा हैं।

प्याज : कोशिकाओं सी बनावट

प्याज की आन्तरिक संरचना शरीर की कोशिकाओं जैसी होती है। इसीलिए यह शरीर की कोशिकाओं को स्वस्थ रखने में सहायक है। 100 ग्राम प्याज में 40 किलो कैलोरी ऊर्जा, 9.3 ग्राम कार्बोज, 1.7 ग्राम रेशा, 1.1 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है।

फायदे : प्याज में केलिसीन व राइबोफ्लेविन (विटामिन-बी) पर्याप्त मात्रा में होता है। इसलिए यह आंखों के लिए बेहतर औषधि है। प्याज का रस लू और पथरी में लाभ देता है। सरसों के तेल में प्याज का रस मिलाकर मालिश करने से गठिया रोग में फायदा होता है।

Let's block ads! (Why?)

Post a comment

0 Comments