गर्मी में ज्यादा मीठा खाना भी स्किन के पसीने छुड़ा देगा, जानें क्यों

गर्मी में त्वचा संबंधी तकलीफें बढ़ जाती हैं। इस मौसम में त्वचा खुस्क होने लगे तो परेशानी बढ़ सकती है और समय रहते सतर्क हो जाना चाहिए। त्वचा शरीर का सबसे बड़ा अंग है जो शरीर के भीतरी अंगों को सुरक्षित रखने का काम करती है। जब इसमें किसी तरह का संक्रमण होता है जो तेजी से फैलता है और शरीर का एक बड़ा भाग उस संक्रमण की चपेट में आ जाता है। ऐसे में गर्मी में त्वचा का खास खयाल रखा जाए तो कई तरह की गंभीर परेशानियों से बचा जा सकता है।

हाई शुगर डाइट लेने से बचें

गर्मी के मौसम में त्वचा संबंधी रोगों से बचाव के लिए हाई शुगर डाइट के इस्तेमाल से बचना चाहिए। शुगर डाइट का अधिक इस्तेमाल से पसीने से मीठा तत्त्व बाहर निकलता है जो घाव, जख्म या संक्रमण का रूप ले सकता है। फल जैसे चीकू, केला, आम भी संतुलित मात्रा में खाना चाहिए। इन फलों में मिठास अधिक होती है। ऐसे में शरीर में शुगर की मात्रा बढऩे से संक्रमण का खतरा दोगुनी तेजी से बढ़ता है। गर्मी में बच्चों के खानपान पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि इसमें बरती गई लापरवही फोड़े फुंसी की वजह बन सकती है।

पसीने को बिलकुल ठहरने न दें

गर्मी में पसीना अधिक निकलता है। जब ये पसीना देर तक शरीर के किसी हिस्से में ठहरा रह जाता है तो परेशानी बढ़ जाती है। त्वचा पर पसीने के जमने से फंगल इंफेक्शन का खतरा अधिक होता है। एक बार ये संक्रमण हो जाए तो पूरे शरीर में तेजी से फैलता और शरीर के दूसरे भाग को भी अपनी चपेट में ले लेता है। पसीने के जमने से त्वचा की ग्रंथिया ब्लॉक हो जाती है जिससे संक्रमण घाव का रूप ले लेता है। इससे बचने के लिए शरीर साफ रखना चाहिए। नहाने के बाद शरीर को अच्छे से पोंछना चाहिए। पंखे की हवा में शरीर को सूखाने के बाद ही कपड़ा पहनना चाहिए। सिंथेटिक और मोटे कपड़े पहनने से बचना चाहिए। सूती कपड़े पहनने से तेज गर्मी और उमस में त्वचा पर कोई बुरा असर नहीं होता है। गर्मी में म्यूकस मेंब्रेन मुंह के अंदर की झिल्ली में छाले पड़ जाते हैं जिसका समय रहते उपचार जरूरी है।

पसीने को रोकेंगे तो होगा नुकसान
गर्मियों में जो लोग बहुत मोटा कपड़ा पहन लेते हैं उनके शरीर से पसीना सही से नहीं निकल पाता है। पसीना कपड़े में चिपककर त्वचा से लगातार लंबे समय तक बना रहता है जिससे त्वचा संबंधी संक्रमण होते हैं। पसीना जब शरीर में रूकेगा तो शरीर का कूलिंग सिस्टम खराब होगा जिससे त्वचा पर घाव, खुजली होने जैसी तकलीफ शुरू होती है। कुछ लोग बहुत अधिक पाउटर लगा लेते हैं। ये पाउटर शरीर में चिपक जाता है। पसीना आने पर ये ग्रंथियों के साथ मिक्स होकर त्वचा के रोम छिद्रो को बंद कर देता है जिससे पसीना आना बंद हो जाता है जो त्वचा संबंधी संक्रमण का बड़ा कारण है।

सुबह उठते ही चेहरा धूलें

गर्मी में सूरज की तेज किरणों से अल्ट्रावॉयलेट रेज निकलती हैं जिससे त्वचा डैमेज होती है। त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए सुबह उठते ही चेहरे साफ पनी से धूलना चाहिए। बाहर निकल रहे हैं तो चेहरे पर सन्सक्रीन लगाकर निकलें। घूप से वापस आने पर चेहरे को धूलेंगे तो उसपे जमा दूषित कण साफ हो जाएंगे और पूरे त्वचा को कोई नुकसान नहीं होगा। त्वचा पर संक्रमण होने पर व्यक्ति उसे बार-बार छूता है उसके बाद शरीर के दूसरे भाग को उसी हाथ से छूता है जो संक्रमण फैलने का बड़ा कारण है।

त्वचा के लिए ऐसा हो खानपान

त्वचा को तरोताजा और चमकदार बनाए रखने के लिए खाने में लौकी, तरोई, पालक के साथ ककड़ी, खीरा, तरबूज, खरबूज, पर्याप्त मात्रा में लेना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों में प्रचुर मात्रा में तरलता होती है जो त्वचा में नमी बनाए रखता है। कॉफी और चाय के प्रयोग से बचना चाहिए क्योंकि इसमें मिले कैफिन से त्वचा को नुकसान होता है। क्षमता से अधिक एक्सरसाइज करने से बचना चाहिए। ऐसा करने से बॉडी फ्लयूड कम होता है जो शरीर के लिए नुकसानदायक होता है।

दोष के हिसाब से तय करते दवा

त्वचा संबंधी परेशानी में दोष जानने के बाद दवा और उसकी पोटेंसी तय करते हैं। त्वचा की तकलीफ घमौरिया, खुजली और जलन से शुरू होती है। शुरूआती लक्षण के आधार पर समय रहते इलाज शुरू हो जाए तो परेशानी से बचा जा सकता है। पानी की वजह से त्वचा संबंधी कोई संक्रमण है तो किस तरह के पानी में संक्रमण हुआ है जैसे नदी, तालाब या टंकी तो उस आधार पर दवा दी जाती है।

खाने के साथ लगाने में भी फायदा

खीरा: खाने के साथ इसके गोल-गोल पीस चेहरे और आंखों पर लगाने से त्वचा हाइडे्रट रहती है

पपाया: पपीता खाने के साथ इसके पल्प को चेहर या त्वचा पर लगाने से नमी बनी रहती है

टमाटर: टमाटर खाने के साथ इसका रस त्वचा पर लगाएंगे तो संक्रमण से बचाव होगा

दही: खाने के साथ नींबू का रस मिलाकर त्वचा पर लगाएं ठंडक महसूस होगी

जायफल: त्वचा पर काले धब्बे हैं तो दूध में मिलाकर इसे लगाएं फायदा होगा

शहद: घाव भरने में मददगार है पर चिकित्सक से सही तरीका जरूर जान लें

  • स्किन इंफेक्शन से बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान
  • तौलिया रोज साफ कर धूप में सूखाएं
  • तौलिया एक दूसरे से शेयर न करें
  • हर व्यक्ति अपना अलग साबुन रखें
  • एक दूसरे का कपड़ा बिलकुल न पहनें
  • धूप से आने पर रूमाल को जरूर साफ करें
  • एक बार इस्तेमाल कपड़ा दोबारा बिना धुले न पहनें

डॉ. अमित तिवारी, त्वचा रोग विशेषज्ञ
डॉ. निहारिका शाक्य, आयुर्वेद विशेषज्ञ
डॉ. पुनीत आर. शाह, होम्योपैथी विशेषज्ञ

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Post a Comment

Previous Post Next Post