दांतों से जुड़े इन 7 मिथकों पर कभी न करें भरोसा

हम सभी सफेद दांत और सुंदर मुस्कुराहट की चाह रखते हैं, जिसे पाना अब हमारे लिए मुश्किल नहीं है। दंत चिकित्सकों से परामर्श करने के साथ नियमित रूप से ब्रश करने और मुंह धोने जैसी मौखिक स्वच्छता गतिविधियों का अभ्यास करने से आप आसानी से सफेद दांत पा सकते हैं। घरेलू उपचार और बाजार में मौजूद उत्पादों के कारण कई बार तथ्यों और मिथकों के बीच अंतर ढूंढना मुश्किल हो जाता है। दुर्भाग्यवश, दांत की सफाई को लेकर किसी भी प्रकार की गलतफहमी आपके मौखिक स्वच्छता पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। हम आपको दांतों को साफ करने से जुड़े सात काल्पनिक बातों के बारे में बताने जा रहे हैंं, जिन पर आपको विश्वास नहीं करना चाहिए।

1. दांतों को सफेद करने वाले टूथपेस्ट के कारण आपके दांतों का रंग सुधरेगा।

हम अक्सर मानते हैं कि दांतों को सफेद करने वाले गम हमारे दांतों के पीले रंग को सफेद कर देंगे। ये गलत है! इन उत्पादों में कुछ श्वेत रसायन होते हैं, लेकिन यह आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं।

2. दांत साफ करने से इनोमेल टिशू पर नकारात्मक प्रभावित पड़ेगा।

यह सच नहीं है! दांत सफेद करने का एक सिद्ध दंत चिकित्सा प्रक्रिया है जो पेशेवर दंत चिकित्सकों द्वारा किया जाना चाहिए। प्राकृतिक घरेलू उपचार या सौंदर्य सैलून जाने की बजाय, दंत चिकित्सकों से अपने दांतों की देखरेख करवाना बेहतर होता है।

3. फल आपके दांतों से उपभेदों को हटा सकते हैं।

हम में से अधिकांश ने सुना है कि केले के छिलके या नींबू जैसे फल रगडऩे से आपके दांत चमकदार हो सकते हैं। हालांकि फल फायदेमंद माने जाते हैं लेकिन दांतों पर रगडऩे से वे एसिड उत्पन्न करते हैं जो आपके दांत के ईनोमेल को नुकसान पहुंचाता है।

4. दांत सफेद करना स्थायी समाधान है।

यह एक सच्चा तथ्य है कि पेशेवर उपचार के बाद, आपके दांत लंबे समय तक सफेद रहेंगे। लेकिन यह कहना गलत है कि आपके दांत जीवन भर के लिए सफेद बने रहेंगे। हमारी खाने की आदतें और जीवनशैली के साथ हमें नियमित रूप से दांत को सफेद करवाना चाहिए।

5. जब आपके मसूड़ों से खून बह रहा है तो आपको ब्रश करना बंद कर देना चाहिए।

ब्रश करते समय जब आपके मसूड़ों से खून बहता दिखे तो आपको चिकित्सक से तुरंत मिलना चाहिए। मसूड़ों से खून तभी बहता है जब आप अपने दांतों को ठीक से साफ नहीं करते हैं। लगातार ब्रश करने से आपकी समस्याओं का समाधान होगा।

6. दांतों के दर्द को कम करने के लिए एस्पिरिन की जरूरत है।

यह कुछ हद तक सही है कि एस्पिरिन से आपको दर्द से राहत मिल सकती है लेकिन एस्पिरिन भी मसूड़ों और दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है।

7. रूट कनाल अत्यधिक दर्दनाक और जोखिम भरा प्रक्रिया है।

यह उन लोगों की एक और गलतफहमी है जो दांत के दर्द से पीडि़त हैं। दंत चिकित्सा में तकनीकी प्रगति के साथ, रूट कनाल उपचार अब एक दर्दनाक प्रक्रिया नहीं रही। दांतों में लंबे समय तक होने वाले दर्द की चिंता करना और उनसे संघर्ष करना बंद करें।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Post a Comment

Previous Post Next Post