इस तरह मिर्गी से मिलेगा छुटकारा

उत्तर प्रदेश के लोगों को अब मिर्गी के इलाज के लिए दिल्ली और केरल के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। अब उनका इलाज लखनऊ स्थित संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट संस्थान (एसजीपीजीआई) में ही सर्जरी के माध्यम से हो सकेगा। यहां के चिकित्सकों ने दावा किया है कि 40 हजार रुपये में इस बीमारी का इलाज सर्जरी के जरिए कराया जा सकता है। एसजीपीजीआई न केवल उत्तर प्रदेश का, बल्कि उत्तर भारत एक जाना पहचाना संस्थान है। यहां पर हजारों लोग अपनों का इलाज कराने पहुंचते हैं। संस्थान के चिकित्सकों का दावा है कि अब मिर्गी नामक बीमारी का इलाज सर्जरी के माध्यम से लोग करवा सकेंगे। दो मरीजों पर यह सर्जरी सफल भी हो चुकी है, जिसके बाद चिकित्सकों के भीतर काफी आत्मविश्वास पैदा हुआ है।

न्यूरोलॉजी विभाग और न्यूरो सर्जन दोनों विभागों की संयुक्त टीम मिलकर यह सर्जरी करती है। मिर्गी से विद्युत तरंगों की तीव्रता, किस हिस्से से, कब और कितनी बार आ रहा है इसकी जांच के लिए ईईजी जांच कराई जाती है। इस मशीन को मरीज के सिर पर दो दिनों तक जोड़े रखा जाता है। इससे दिमाग के किस हिस्से में दिक्कत हो रही है, उसका पता लगाया जा सके। इसके बाद न्यूरो सर्जन इस क्षतिग्रस्त हिस्से को सर्जरी के माध्यम से निकाल देते हैं। इसके बाद मरीज को मिर्गी के दौरे पडऩे बंद हो जाते हैं।

एसजीपीजीआई के चिकित्सकों के मुताबिक, मिर्गी के मरीज का अंतिम इलाज सर्जरी ही होती है। इससे सिर को ओपन कर माइक्रोस्कोप की मदद से दिमाग के क्षतिग्रस्त हिस्से को काटकर निकाल दिया जाता है। सर्जरी के पांच दिनों बाद मरीज को डिस्चार्ज किया जाता है।

गौरतलब है कि अब तक यह सर्जरी केवल केरल एवं दिल्ली के एम्स में होती थी। अब एसजीपीजीआई में भी इसका इलाज शुरू हो गया है। इस सर्जरी में करीब 40 हजार रुपये का खर्च आता है। इससे उत्तर प्रदेश ही नहीं, आसपास के कई राज्यों से लोग आकर यहां अ पना इलाज करा सकेंगे।

Post a comment

0 Comments