मिनी ब्रेन स्ट्रोक की चेतावनी को समझें

ब्रेन अटैक (स्ट्रोक) एक ऐसी बीमारी है जो नवजात से लेकर हर उम्र के व्यक्ति को प्रभावित करती है। विश्वभर में प्रत्येक छह सेकंड में एक व्यक्ति की मौत स्ट्रोक से होती है। जानते हैं इस बीमारी के विभिन्न पहलुओं के बारे में-

ये हंै कारण : मस्तिष्क में रक्त प्रवाह कम होने या रुकने पर ब्रेन स्ट्रोक की समस्या होती है जिससे रक्त शिराओं में थक्के जम ना, ब्लॉके ज या रिसाव हो सकता है । जब प्रवाह रुकने से मस्तिष्क में स्थायी क्षति होती है तो इसे ब्रेन स्ट्रोक कहते हैं ।

मिनी स्ट्रोक : कभी-कभी स्ट्रोक के ल क्षण कुछ मिनटों से कुछ घंटों तक ही रहते हैं । इस स्थिति को ट्रांजिएट इस्की मिक अटैक या मिनी स्ट्रोक कहते हैं । यह भविष्य में स्ट्रोक की चेतावनी है इस लिए इसे गंभी रता से लें ।

प्रमुख लक्षण : शरीर के एक तरफ चेहरे, बाजू या टांग में कमजोरी व सुन्नता । बात न कर पाना या आवाज लड़खड़ाना। एक या दोनों आंखों से देखने में दिक्कत । संतुलन बनाने में समस्या या चक्कर व उल्टी आना । तेज सिरदर्द होना या भ्रम की स्थिति ।

इन्हें खतरा : हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल, तनाव, हृदयरोग, अत्यधिक वसायुक्त भोजन व धूम्रपान और शराब के सेवन से स्ट्रोक की आशंका बढ़ जाती है ।


ध्यान रखें : नियमित व्या याम करें और ब्लड प्रेशर व शुगर नियंत्रित रखें । संतुलित भोजन लें व मोटापे को नियंत्रित रखें। शराब व धूम्रपान से बचें । स्ट्रोक एक आ पात स्थिति है, लक्षण दि खाई देेने के साढ़े चार घंटे के भीतर उपचार शुरू होने पर इसका इलाज संभव है ।

यह भी जानें

स्ट्रोक के 10 प्रति शत मरीज ही पूरी तरह ठीक हो पाते हैं ।
25 प्रतिशत मरी जों में मामूली कमजोरी रहती है व 40 प्रतिशत रोगी अत्यधिक कमजोरी महसूस करते हैं ।

Post a comment

0 Comments