जानिए ख़राब होने से कैसे बचा सकते हैं अपने दांत

जयपुर. नाखून और बाल काटने के बाद फिर से बड़े हो जाते हैं। टूटी हुई हड्डियां फिर से जुड़ सकती हैं लेकिन क्या जानते हैं कि टूथ इनेमल एक बार खराब होने के बाद फिर से नहीं आ सकते हैं। मीठा या एसिडिक पेय लेने के बाद पानी से कुल्ला जरूर करें। इनेमल दांत को कवर करने वाला पतला बाहरी आवरण है। यह शरीर में सबसे कठोर ऊतक है। यह दांतों को दैनिक उपयोग जैसे चबाने, काटने, क्रंच करने और पीसने से बचाने में मदद करता है। यह आपको खाने और पीने की गर्म और ठंडे चीजों से चरम सीमा तक तापमान को महसूस करने से रोकता है। इनेमल एसिड और रसायनों को भी रोकता है जो दांतों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

टूथ इनेमल हटने के बाद क्या होता है?

दांतों में डेंटिन होता है। यह इनर ट्यूब्स का एक समूह होता है जो दांत की तंत्रिकाओं और अन्य कोशिकाओं को कवर करता है। जब इनेमल हट जाता है तो दांतों के डेंटिन और नसें दिखने लगती हैं। इनके एक्स्पोजर से दर्द और दांतों की सेंसिटीविटी हो सकती है। ऐसी स्थिति में दांतों के गिरने, कैविटी होने और संक्रमण की भी आशंका बढ़ जाती है।

इनेमल क्षरण का क्या कारण है?

दांतों की सुरक्षा के लिए लार में एसिड को निष्क्रिय करने की प्रवृत्ति है। जो लोग अधिक एसिडिक आहार लेते हैं पर ठीक से ब्रश नहीं करते हैं। शक्कर युक्त खाद्य पदार्थ-आइसक्रीम, कैंडी और चॉकलेट, स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ-आलू चिप्स व गेहूं की रोटी, अम्लीय खाद्य पदार्थ-सेब और नींबू और सॉफ्ट ड्रिंक्स और गर्म पेय पदार्थ ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं। ज्यादा दबाव देकर ब्रश करने और दांत पीसने से भी इनेमल को नुकसान होता है।

सुरक्षा कैसे करें?

मुम्बई के पेरियोडॉन्टिस, इम्प्लान्टोलॉजिस्ट डॉ. अजय कक्कड़ ने बताया कि इनेमल पुनर्जीवित या प्रतिस्थापित नहीं किए जा सकते हैं। ओरल हाईजीन से इसे और खराब होने से रोक सकते हैं। सॉफ्ट टूथब्रश का प्रयोग करें। मीठा या एसिडिक पेय लेने के बाद पानी से कुल्ला जरूर करें। डिसेंन्सिटाइजिंग टूथपेस्ट का प्रयोग करें। हर छह माह में नियमित जांच और सफाई कराएं।

Post a comment

0 Comments